Bitcoin kya hai |बिटकॉइन क्या हैं

Bitcoin kya hai 

Dosto हम आजकल अखबारों में या  टीवी पर Bitcoin के बारे में अक्सर सुनते रहते है। पढ़कर और सुनकर हमारे अन्दर एक जिज्ञासा उठती हैं कि Bitcoin Kya hai, और यह कैसे काम करती हैं। इसे कहां रक्खा जाता हैं। आज की पोस्ट को पढ़कर आपकी सभी जिज्ञासाएं शांत हो जाएगी ऐसा मुझे विश्वास हैं।

बिटकॉइन या क्रिप्टोकरेंसी क्या हैं (Bitcoin Kya Hai)

दोस्तों currency एक ऐसी मुद्रा हैं, जिससे हम अपने लिए कोई भी सामान, सुविधा या सेवा  खरीद सकते हैं,  और प्रत्येक देश की अपनी अपनी करेंसी होती है जिस पर उसका नियन्त्रण होता है।

ठीक उसी प्रकार Bitcoin भी एक साइबर करेंसी ( Digital currency) है जो पूर्ण रूप से आभासी हैं अर्थात उसे न तो हम देख सकते और न ही हम उसे छू सकते हैं।

Bitcoin का प्रयोग केवल online ही किया जा सकता हैं। दोस्तों एक महत्वपूर्ण बात यह हैं कि इस currency पर किसी का भी कोई नियन्त्रण नहीं हैं अर्थात इसको नियंत्रित करने के लिए कोई रेगुलेटरी अथॉरिटी नहीं है।

Bitcoin का आविष्कार 2008 सातोशी नकामोतो ने एक सॉफ्टवेयर के रूप में किया था और 2009 मई ओपन सोर्स सोफ्टवेयर के रूप मैं जारी किया था।

Bitcoin का प्रयोग क्यों किया जाता हैं

दोस्तों यदि हम online कोई भी सामान या सेवा खरीदते हैं तो उसका payment डेबिट कार्ड / क्रेडिट कार्ड / ऑनलाइन बैंकिंग के माध्यम से किया जाता हैं। यानि की Buyer और Seller के बीच जो Pament होता हैं।

उसमे बैंक की भागीदारी अवश्य होती हैं, और इस सुविधा को प्रदान करने के लिए बैंक हमसे चार्ज काटता हैं।

जबकि इसके विपरीत Bitcoin , Pear to Pear सिस्टम पर काम करता हैं अर्थात इसमें Transaction बिना किसी डेबिट कार्ड / क्रेडिट कार्ड / ऑनलाइन बैंकिंग के सीधा दो users के बीच होता हैं। यह Transaction सुरक्षित और तेज होता हैं।

Bitcoin का प्रयोग आजकल बहुत तेजी से बढ़ रहा हैं। पूरी दुनियां में बहुत लोगों द्वारा इसका प्रयोग किया जा रहा हैं। दोस्तों में फिर भी एक बात आपको बताना चाहुगा कि अब तक वैधानिक रूप से इसे किसी देश ने मान्यता नहीं दी हैं।

Bitcoin Wallet क्या हैं

Bitcoin एक Digital currency हैं इसलिए इसको रखने के लिए भी Digital lockar की आवश्यकता होती हैं। जिसे Bitcoin  Wallet भी कहा जाता हैं।Internet पर बहुत सारे software और Cloud Based Wallet हैं। जिन पर हम अपना अकाउंट बनाकर Bitcoin  को रख सकते हैं।

Bitcoin कैसे प्राप्त करें

दोस्तों हम Bitcoin  को अनेक तरीकों से प्राप्त कर सकते हैं।

1. अपनी currency से हम Bitcoin  खरीद सकते हैं। 1 Bitcoin में 1० करोड़ सातोशी होते हैं। आप थोड़ी -थोड़ी संख्या में सातोशी खरीद कर भी Bitcoin खरीद सकते हैं।

2. अपनी सेवाओं को या अपने किसी सामान को ऑनलाइन बेचकर भी Bitcoin  प्राप्त कर सकते हैं।

3.Bitcoin को Mining करके भी प्राप्त किये जा सकता हैं।

Bitcoin Mining क्या हैं

मान लीजिये हमें किसी को Bitcoin  भेजने हैं तो हमारे Bitcoin  भेजने के प्रोसेस को जो varify करता हैं। वह Bitcoin Miners कहलाता हैं।

Bitcoin Miners के पास बहुत ही शक्तिशाली विशेष गणना करने वाला कंप्यूटर होता हैं।

प्रत्येक Transaction पर Miners को पुरस्कार स्वरूप Bitcoin मिलते हैं और इस प्रकार Bitcoin की संख्या बढती जाती हैं। जिस प्रकार प्रत्येक देश सीमित मात्रा में ही अपनी currency छापता हैं।

उसी प्रकार Bitcoin भी मार्केट में 21 Million से अधिक नही हो सकते हैं। वर्तमान में मार्केट में13 Million ही Bitcoin हैं। हम ये समझ सकते हैं की नए Bitcoin, Mining से ही आयेगे।

Bitcoin के इस्तेमाल के फायदे और नुकसान

Bitcoin का प्रयोग किसी भी देश में और किसी भी समय किया जा सकता हैं। इसके इस्तेमाल से Transaction charge न के बराबर लगता हैं। इसके Transaction पर government नजर नहीं रख सकती हैं। इसमें Transaction बहुत ही तेज होता हैं।

सबसे बड़ा नुकसान यह हैं कि एक बार Bitcoin Transfer करते ही वे Reciever के खाते( एड्रेस) में जमा हो जाते हैं। फिर आप उन्हें तब तक वापस नहीं प्राप्त कर सकते जब तक Reciever उन्हें न लौटना चाहे।

भारत के संदर्भ में बिटकॉइन या क्रिप्टोकरेंसी :

RBI (Reserve Bank Of India) ने साल 2018 में एक सर्कुलर जारी कर बैंकों को क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) में कारोबार करने से मना कर दिया था।

आरबीआई के सर्कुलर को चुनौती देने के लिए इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (IAMAI) द्वारा सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की गई थी। कोर्ट में सुनवाई के दौरान आईएएमएआई द्वारा कहा गया, कि केंद्रीय बैंक के इस कदम से क्रिप्टोकरेंसी में होने वाली वैध कारोबारी गतिविधियों पर प्रभावी रूप से पाबंदी लग गई है।

जिसके जवाब में आरबीआई ने कोर्ट में हलफनामा दाखिल किया। आरबीआई ने कहा कि उसने क्रिप्टोकरेंसी के माध्यम से मनी लांड्रिंग और आतंकी वित्त पोषण के खतरे के मद्देनजर यह कदम उठाया है।

बाद में सुप्रीम कोर्ट ने क्रिप्टोकरेंसी को लेकर बड़ा फैसला सुनाते हुए इस पर लगे सभी प्रतिबंध हटा लिए। अब देश के सभी बैंक इसका लेन-देन शुरू कर सकते है।

आज हमने क्या सीखा:

दोस्तों आज की पोस्ट में हमने सीखा की बिटकॉइन क्या होता (Bitcoin kya hai) . यह कैसे कार्य करता हैं और इसे कैसे अर्जित किया जा सकता हैं। मेरा हमेशा की ही तरह यह प्रयास रहता हैं कि जो भी पोस्ट प्रकाशित की जाये उसमें उस टॉपिक से सम्बंधित सभी बिंदुओं को cover किया जाये।  जिससे आपको किसी दूसरे श्रौत की आवश्यता ही नहीं पड़े।

धन्यवाद 🙂

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here