झगड़ालू साधू :Moral story of Swami Dayanand Sarasvati in hindi

0
432
Moral story of Swami Dayanand Sarasvati in hindi
Moral story of Swami Dayanand Sarasvati in hindi

झगड़ालू साधू : Moral story of Swami Dayanand Sarasvati in hindi

Moral story of Swami Dayanand Sarasvati in hindi.एक समय की बात है स्वामी दयानंद सरस्वती फरुखाबाद में गंगा तट पर रुके हुए थे। तट पर ही उन्होंने अपने रुकने के लिए एक छोटी सी कुटिया बनाई हुई थी। उस कुटिया से थोड़ी ही दूर पर एक साधू ने भी अपनी कुटिया बनाई हुई थी। वह साधू स्वामी जी  से बिना किसी कारण के ही द्वेष रखता। 

वह साधू हर रोज बिना किसी कारण के ही स्वामी जी की कुटिया के पास आकर उन्हें गालियाँ दिया करता था। पर स्वामी जी उनकी किसी भी गाली का प्रत्युक्तर नहीं देते थे। जिससे वह साधू थक हारकर वापस अपनी कुटिया में चला जाया करता था। 

एक दिन स्वामी जी के किसी शिष्य ने उन्हें फलों से भरा एक टोकरा भेजा। स्वामी जी ने उस टोकरे में से कुछ फल निकाल कर एक पोटली बना दी और अपने शिष्य से बोले जाओ उस साधू को ये फल देकर आओ। जब उनका शिष्य वह फल लेकर उस साधू के पास पहुँचा और साधू से कहा की ये फल स्वामी जी ने आपके लिए भेजे हैं, तो वह क्रोध से पागल हो गया और उनके शिष्य से बोला तुमने सुबह-सुबह किस मनहूस का नाम मेरे सामने ले दिया। 

यह सुनकर शिष्य वापस स्वामी जी के पास वापस लौट आया। उसने सारी बात स्वामी जी को बता दी। इस पर स्वामी जी ने अपने शिष्य से कहा वापस जाओ और उस साधू से यह कहो कि ये फल इसलिए भिजवाये है की आप जो अमृत वचन इस कुटिया पर आकर देते हो उससे उससे आपकी बहुत सारी उर्जा नष्ट हो जाती हैं। ये  फल आपकी उर्जा को बनाए रखेगे जिससे कि मुझे आपके अमृत वचनों से वंचित न होना पड़े। 

स्वामी जी के शिष्य ने जब ये सन्देश उस साधू को सुनाया तो वह बहुत शर्मिंदा हुआ। और उस साधू ने स्वामी जी के पास जाकर अपने व्यवाहर के लिए उनसे माफ़ी मांगी। 

दोस्तों महापुरुषों के प्रेरक प्रसंग हमे हमेशा कोई न कोई सीख देते हैं। इस प्रसंग से हमें यह शिक्षा मिलती हैं की यदि हमसे कोई नाराज हैं तो हमें उसके साथ अच्छा व्यवहार ही करना चाहिए। एक न एक दिन तो उस व्यक्ति को अपनी गलती का अहसास हो  ही जायेगा। 

For More Read – महान व्यक्तियों के जीवन के प्रेरक प्रसंगों का विशाल संग्रह
Similar Post-

—————————————–

दोस्तों झगड़ालू साधू :Moral story of Swami Dayanand Sarasvati in hindi| में दी गई जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया हमारे फेसबुक(Facebook) को Like & Share अवश्य करें। 

हमारे द्वारा दी गई जानकारी में कुछ त्रुटी लगे या कोई सुझाव हो तो comment करके सुझाव हमें अवश्य दें।हम इस पोस्ट को update करते रहेंगें। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here