सफल होना हैं तो सपने देखिये / Success Starts with a Dream

0
250

सफल होना हैं तो सपने देखिये/Success Starts with a Dream

किसी भी सफल व्यक्ति के जीवन कि शुरुवात उसके द्वारा देखे गये एक बड़े सपने से होती हैं |दोस्तों सपने दो प्रकार के होते हैं | एक तो वो जो खुली आँखों से देखे जाते हैं | दूसरे वो जो हम मन की आँखों से देखते हैं |

खुली आँखों से जो सपने देखे जाते हैं वो जीवन का वो पहलू दिखाते हैं जो सामने होता हैं | उसकी सीमाएं होती हैं और प्रत्येक व्यक्ति को एक समान द्रश्य दिखाई देता हैं | जबकि मन कि आँखों से जो सपने दिखाई देते हैं वो होते हैं जो हम बनना चाहते हैं या जो हम प्राप्त करना चाहते हैं |दोस्तों एक बड़ा सपना देखना एक बीज के तरह होता हैं जो आगे चलकर सफलता रूपी वट वृक्ष बन जाता हैं | चलो दोस्तों अब हम बात करते हैं  कैसे एक बीज रूपी सपना किस प्रकार आगे चलकर एक वट वृक्ष बनता हैं | जीवन एक उपजाऊ खेत की तरह हैं | हम उसमे जैसे बीज बोते हैं वैसी ही हमें फसल प्राप्त होती हैं |

सपने वे नहीं होते जो सोते हुए देखते हैं | सपने वे होते हैं जो सोने नहीं देते ||

सपने का चयन :-

दोस्तों हम जीवन में किस प्रकार कि सफलता चाहते हैं हमें उसी के अनुरूप बहुत सावधानी से अपना सपना चुनना होगा |यह ठीक इस प्रकार हैं यदि हम अपने खेत में पपीते के पेड उगाना चाहते है तो हमें उत्तम क्वालिटी के पपीते के बीज चुनने होगे न कि अमरुद के |यदि हम गेहूँ कि फसल उगाना चाहते है तो हमें गेहूँ के बीज चुनने होगे | हमारे पास गेहूँ के जो भी बीज हैं हम उन्हें अच्छी तरह से छानकर व साफकर और जो बीज कमजोर हैं उसे बाहर निकाल देते हैं  और केवल उत्तम क्वालिटी के बीज ही बोते हैं ,तभी हम यह आशा कर सकते है कि हमारी फसल अच्छी होगी | ठीक उसी प्रकार हमें अपने सपनों के बीच से वो सपना चुनना होता है जो श्रेष्ठ हो अर्थात वो सपना जिसे पूरा करते समय न तो हम थकें और न ही हम जिसे भूल सकें बल्कि जिसे पूरा करने के लिए हम दीवानगी की हद तक चले जाए |

मन रूपी खेत की तैयारी :-

दोस्तों जिस प्रकार खेत में बीज बोने से पहले हम अपने खेत कि अच्छी तरह से जुताई, खुदाई व अन्य तयारी करते है |उसी प्रकार मन में सपनों का बीज बोने से पहले मन के जो विकार हैं उन्हें दूर करते है यथा – पुरानी असफलता की यादें , मन में सपने को लेकर संशय,सफल होंगे या ना होंगे का विचार आदि |ये सब हमें अपनी सकरात्मक सोच से करना होगा ताकि सपनों का बीज हम मन की गहराइयों में बो सकें | क्योंकि बीज जितना गहराइयों में होगा सफलता उतनी ही शानदार होगी |

जितना कठिन संघर्ष होगा | जीत उतनी ही शानदार होगी ||

मन में सपनों को रोपने के बाद :-

दोस्तों जिस प्रकार खेत में बीज रोपने के कुछ समय बाद उसमें अंकुर आ जाते हैं | उसी के साथ खरपतवार भी पैदा होते हैं | ठीक उसी प्रकार जब हम अपने सपने को पूरा करने के लिए आगे बढ़ते हैं तो मन में हताशा, निराशा और विभिन्न प्रकार के डर पैदा होने लगते हैं |जिस प्रकार अच्छी फसल के लिए खरपतवारों का नष्ट करना आवश्यक हैं उसी प्रकार मन में आये इन विकारों का दूर करना भी आवश्यक हैं |यह सब हम अपनी सकारात्मक सोच व लक्ष्य पर ध्यान केन्द्रित कर कर सकते हैं |

जो सपने देखने की हिम्मत रखते हैं | वो पूरी दुनियां जीत सकते हैं ||

जिस प्रकार एक सफल किसान अपने खेत पर नियमित भ्रमण करता हैं और वह यह देखता हैं कि खेत को अब किस चीज कि आवश्यकता हैं उसी के अनुरूप वह खाद पानी देता हैं ठीक वैसे ही अपने मन में बोये हुए सपने का आत्म निरीक्षण करते रहना चाहिये और जो भी कमजोरी सफलता के मार्ग में बाधक बन रही हैं उन्हें दूर करते रहना चाहिये |हमें उन लोंगो के संपर्क में रहना चाहिये जिनके लक्ष्य हमारे जैसे हों क्योकि उनसे मिलकर हमें जो सकारात्मक उर्जा मिलेगी वो हमारे सपने के लिए खाद पानी का काम करेगी |

Related:एप्पल कंपनी के संस्थापक स्टीव जाब्स के आखिरी शब्द

दोस्तों सफलता एकदम व अचानक नहीं मिलती बल्कि कदम दर कदम मिलती हैं क्योकिं लम्बी यात्रा की शुरुवात भीं एक छोटे से कदम से होती हैं ,तो दोस्तों आपके द्वारा बोया गया सपनों का बीज निश्चत ही आपके लिए सफलता के नये मानदंड को स्थापित करेगा |

—————————————————————-

Success starts with a dream/सफल होना हैं तो सपने देखिये | ये पोस्ट कैसी लगी, कमेंट द्वारा अवश्य बताये | यदि आपके पास भी कोई motivational article/ motivational story और ब्लॉग सम्बन्धित कोई आर्टिकल हैं और आप उसे हमारे साथ शेयर करना चाहते हैं तो onlinedost4u@gmail.com par भेजें /जिसे आपके नाम व फोटो सहित प्रकाशित किया जायेगा |

Related post

  1. 5 Small steps to change your personality
  2. आदतों को बदलना संभव है / It is possible to change your habits
  3. उन्मुल खैर( IAS) की सफलता की कहानी-होसलों की बुलंद उड़ान
  4. एक व्यक्ति जिसने नेत्रहीन होने के बाद भी C A बनने का सपना देखा और पूरा किया-राजशेखर जी
  5. एक अनोखा मोटीवेशनल स्पीकर- Nick Vujicic

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here