जुल्म का विरोध करो|Protest against oppression Swami Vivkanand prerak prasang in hindi

0
199 views

Protest against oppression Swami Vivkanand prerak prasang in hindi
Protest against oppression Swami Vivkanand prerak prasang in hindi

Protest against oppression Swami Vivkanand prerak prasang in hindi.एक बार स्वामी विवेकानंद रेल से कहीं जा रहे थे। वे रेल के जिस डिब्बे में बैठे थे उसमे एक महिला भी अपने बच्चे के साथ यात्रा कर रही थी। अगले स्टेशन पर दो अंग्रेज व्यक्ति उस डिब्बे में चढ़े और महिला के सामने वाली सीट पर बैठ गए। रेल अभी कुछ दूर ही चली थी कि उन अंग्रेज व्यक्तियों ने उस महिला को अकेला जानकर उस पर अभद्र टिप्पणियाँ करनी शुरू कर दी। क्योकि उस समय अंग्रेजो का शासन था और सभी लोग उनसे डरते थे।इसलिए डिब्बे में बैठे किसी भी व्यक्ति ने उनके अभद्र व्यवहार के लिए विरोध नही किया।

विरोध न होने पर उन अंग्रेज व्यक्तियों का साहस बढ़ता गया। उस महिला ने सहायता के लिए आस – पास देखा तो सभी ने अपनी नजरे  झुका ली। तभी रेल में कुछ भारतीय सिपाही जो डिब्बे चैक करते हुए आ रहे थे। उस डिब्बे में पहुंचे । उस महिला ने  उन सिपाहियों से उन अंग्रेज व्यक्तियों की शिकायत की तो वे भी उन्हें देखकर अनसुना करके चले गये।

स्वामी विवेकानंद दूर बैठे यह सब देख रहे थे। वे अपने स्थान से उठे और उन अंग्रेज व्यक्तियों के सामने जा कर बैठ गए। जैसे ही उन अंग्रेजो ने फिर से अभद्र टिप्पणी करनी चाही। स्वामी विवेकानंद ने उनकी ओर घूरकर देखा और उनसे लड़ने के लिए अपनी बाहें चढाने लगे।

स्वामी विवेकानंद का यह व्यवहार देखकर वे दोनों अंग्रेज सहम गये और डर कर चुप बैठ गए। इसके बाद जब तक उनका स्टेशन नहीं आ गया। वे कुछ भी नहीं बोले।

स्वामी विवेकानंद के जीवन का यह प्रसंग हमें यह सिखाता है, कि हम जुल्म को जितना अधिक सहेंगे वह उतना ही मजबूत होगा।

अवश्य पढ़े :-

————————————————-

दोस्तों यदि आपके पास जुल्म का विरोध करो|Protest against oppression Swami Vivkanand prerak prasang in hindi

 में ओर जानकारी हैं, या हमारे द्वारा दी गई जानकारी में कुछ त्रुटी लगे या कोई सुझाव हो तो comment करके सुझाव हमें अवश्य दें । हम इस पोस्ट को update करते रहेंगें ।दोस्तों यदि आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी हो तो उसे like और share अवश्य करें 

धन्यवाद 🙂

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here