महाशिवरात्रि क्यों मनाई जाती हैं Mahashivratri kyo manai jati hai in hindi

0
500 views

महाशिवरात्रि क्यों मनाई जाती हैं

 Mahashivratri kyo manai jati hai in hindi
Mahashivratri kyo manai jati hai in hindi

Mahashivratri kyo manai jati hai in hindi

दोस्तों आज की पोस्ट में महाशिवरात्रि क्यों मनाई जाती हैं Mahashivratri kyo manai jati hai in hindi पोस्ट प्रकाशित की जा रही है।  मुझे पूर्ण विश्वास है की आपको यह पोस्ट अवश्य पसंद आएगी। 

शिव का अर्थ है,कल्याण कारीइसलिए जो भी कल्याण कारी हैं वही शिव हैं  इस प्रकार शिव की स्तुत्ति करते हुए जो रात बीत जाये वह शिव रात्रि हैंवैसे तो प्रत्येक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी शिवरात्रि कहलाती हैंलेकिन फाल्गुन मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी महाशिवरात्रि कहलाती हैं। 

Mahashivratri kyo manai jati hai in hindi

महाशिव रात्रि का पर्व मनाये जाने के सम्बन्ध में कई पौराणिक कथाएँ प्रचलित हैं।   इनमें से सर्वाधिक प्रचलित कथा यह हैं की एक बार भगवान विष्णु और ब्रम्हा जी में इस बात पर बहस हो गई की सर्वश्रेष्ठ कौन हैं जब उनके बीच विवाद अधिक बढ़ गया तो उनके बीच में एक शिवलिंग प्रकट हुआ शिव लिंग के दर्शन करने के बाद दोनों ने सहमती से निर्णय लिया की जो भी इस शिव लिंग का प्रारंभ और अंत जान लेगा वही श्रेष्ठ मन जायेगा। 

यह निर्णय होने पर ब्रह्मा जी हंस के रूप में तथा भगवान् विष्णु शूकर के रूप में आकाश पाताल की और गमन करने लगेजब ब्रह्मा जी आकाश की और जा रहे थे तभी उन्होंने केतकी के फूल को नीचे की ओर गिरते देखा तो उससे पूछा क्या वह प्रारंभ से आ रहा हैं ? तब उसने जवाब दिया की नही वह तो मध्य भाग से ही हजारों वर्षो से गिरता चला आ रहा हैं। 

ब्रह्मा जी ने केतकी के फूल को  भगवान विष्णु के सामने इस बात की गवाही के लिए तैयार कर लिया कि ब्रम्हा जी ने लिंग का आरम्भ बिंदु खोज लिया हैंइसके बाद केतकी के फूल ने विष्णु भगवान के सामने इस बात की गवाही कर दी तब भगवान् विष्णु ब्रम्हा जी को श्रेष्ठ मान लिया और उनकी पूजा करने लगे तभी उस लिंग से भगवन शिव प्रकट हुए और उनके क्रोध से भैरव प्रकट हुए। भगवान् शिव ने  भैरव को उस मुख का छेदन करने का आदेश दिया जिस मुख से ब्रम्हा जी ने झूठ बोला थालेकिन भगवान् विष्णु की स्तुति करने पर भगवान् शिव ने ब्रम्हा जी को अभय दान दे दिया। इस प्रकार जिस दिन यह कार्य हुआ उस दिन शिवरात्रि के रूप में भगवान् शिव की याद में मनाया जाता हैं। 

एक अन्य दूसरी मान्यता के अनुसार इस दिन भगवान शिव और देवी पार्वती का विवाह संपन्न हुआ था इसलिए भी इस पर्व को धूम धाम से मनाया जाता हैं। 

महाशिवरात्रि की पूजा 

महाशिवरात्रि के दिन  सुबह से ही मंदिरों में भगवान शिव का अभिषेक करने के लिए भक्तों के भीड़ लगने लगती हैंभक्त अनेकों प्रकार से किया जाता भगवान् का अभिषेक करते हैंजलाभिषेक : जल से और दुग्‍धाभिषेक : दूध से।

भक्त शिव के मंदिरों में पारंपरिक शिवलिंग पूजा करने के लिए आते हैंशिवलिंग पर चढाने के लिए धतूरे का फल, बेलपत्र, भांग, बेल, आंक का फूल, धतूरे का फूल लाते है, और भगवान से अपनी मनोकामना पूरी करने की  प्रार्थना करते है। 

Similar Post

—————————————————————

दोस्तों महाशिवरात्रि क्यों मनाई जाती हैं Mahashivratri kyo manai jati hai in hindi| में दी गई जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया हमारे फेसबुक(Facebook) को Like & Share अवश्य करें। 

हमारे द्वारा दी गई जानकारी में कुछ त्रुटी लगे या कोई सुझाव हो तो comment करके सुझाव हमें अवश्य दें।हम इस पोस्ट को update करते रहेंगें। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here