एक सीख जो जीवन में अवश्य अमल में लाये

0
107

learning-which-must-be-implemented-in-life-in-hindi

एक सीख जो जीवन में अवश्य अमल में लाये|Learning which must be

implemented in life in hindi

पढाई पूरी करने के बाद एक छात्र किसी बड़ी कंपनी में नौकरी पाने कि चाहत में इंटरव्यू देने के लिए पंहुचा ….

छात्र ने बड़ी आसानी से पहला इंटरव्यू पास कर लिया ……

अब फाइनल इंटरव्यू कंपनी के डायरेक्टर को लेना था ………

और डायरेक्टर को यह तय करना था कि छात्र को नौकरी पर रखा जाए या नहीं……….

डायरेक्टर ने छात्र का सीवी ( curricular vitae ) देखा और पाया कि पढाई के साथ -साथ यह छात्र extra curricular activities में भी हमेशा अव्वल रहा है …….

डायरेक्टर ने पूछा -‘ क्या तुम्हें पढाई के दौरान कभी छात्रवृति मिली हैं …..?

छात्र -‘ जी नहीं ‘

डायरेक्टर -‘ इसका मतलब स्कुल – कांलेज की फ़ीस तुम्हारे माता पिता अदा करते थे ….’

छात्र -‘ जी हाँ सर ‘

डायरेक्टर -‘ तुम्हारे पिता क्या काम करते हैं ?’

छात्र -‘ जी वो लोंगो के कपड़े धोते हैं ….’

यह सुनकर कंपनी के डायरेक्टर ने कहा – ‘ जरा अपने हाथ तो दिखाना …..’

छात्र के हाथ रेशम की तरह मुलायम और नाजुक थे ….

डायरेक्टर ने पूछा -‘ क्या तुमने कपड़े धोने में अपने पिता जी की मदद की ….?

छात्र -‘ जी नहीं सर , मेरे पिताजी हमेशा यही चाहते थे कि मैं पढाई करूं और ज्यादा से ज्यादा किताबें पढू..

डायरेक्टर -‘ क्या में तुम्हें एक काम कह सकता हूं….?

छात्र -‘ जी , आदेश कीजिए …’

डायरेक्टर -‘ आज घर वापस जाने के बाद अपने पिताजी के हाथ धोना …..और कल आकर मुझसे मिलाना ‘

छात्र यह सुनकर प्रसन्न हो गया , उसे लगा कि अब तो नौकरी मिलना पक्का हैं ,तभी तो डायरेक्टर ने कल फिर बुलाया हैं ….

छात्र ने घर आकर खुशी -खुशी  अपने पिता को ये सारी बातें बताई और अपने हाथ दिखाने को कहा ….

पिता को थोड़ी हैरानी हुई , लेकिन फिर भी उसने अपने बेटे कि इच्छा का मन रखते हुए अपने दोनों हाथ उसके हाथ में दे दिए ….

छात्र ने पिता के हाथो को धीरे -धीरे धोना शुरू किया | कुछ ही देर में हाथ धोने के साथ ही साथ उसकी आँखों से आंसू भी गिरने लगे …

पिता के हाथ रेगमाल की तरह सख्त और जगह -जगह से कटे हुए थे …..

यहाँ तक कि जब भी कटे के निशानों पर पानी डलता  तो चुभन का एहसास पिता के चेहरे पर साफ झलकता ….

छात्र को जीवन में पहली बार एहसास हुआ कि ये वही हाथ हैं जो रोज लोंगो के कपड़े धो कर उसके लिए अच्छे खाने ,कपड़ों और फ़ीस का इंतजाम करते थे ….

Read: एक व्यक्ति जिसने नेत्रहीन होने के बावजूद भी C A बनने का सपना देखा और पूरा भी किया 

पिता के हाथ का हर छाला सबूत था उसके एकेडमिक कैरियर कि एक एक कामयाबी का …..

पिता के हाथ धोने के बाद छात्र को पता ही नहीं चला कि उसने उस दिन के बचे हुए सारे कपड़े एक एक डर धो डाले …..

उसके पिता रोकते ही रह गये ,लेकिन छात्र अपनी धुन में कपड़े धोता चला गया ….

उस रात बाप -बेटे ने काफी देर तक बातें की ….

अगली सुबह छात्र फिर नौकरी के लिए कंपनी के डायरेक्टर के आँफिस में था ….

डायरेक्टर का सामना करते हुए छात्र की आँखे गीली थी …..

डायरेक्टर -‘ हूं , तो फिर कल घर पर अनुभव कैसा रहा , क्या तुम अपना अनुभव मेरे साथ शेयर करना पसंद करोगे …..?

छात्र -‘ जी , हाँ सर , कल मैंने जिन्दगी का एक वास्तविक अनुभव सीखा …..

नंबर एक …. मैंने सीखा सराहना क्या होती हैं . मेरे पिता न होते तो में पढाई में इतने आगे नहीं आ सकता था …

नंबर दो …… पिता की मदद करने से मुझे पता चला कि किसी काम को करना कितना सख्त और मुश्किल होता हैं …

नंबर तीन …. मैंने रिश्तों की अहमियत पहली बार इतनी सिद्दत के साथ महसूस की …

डायरेक्टर -‘ यही सब हैं जो मैं अपने मैनेजर में देखना चाहता हूं|मैं यह नौकरी केवल उसे देना चाहता हूं जो दूसरों की मदद कि कद्र करें|ऐसा व्यक्ति जो काम किये जाने के दौरान दूसरों की तकलीफ भी महसूस करें …

ऐसा व्यकित सिर्फ पैसो को ही अपने जीवन का ध्येय बना कर ना रक्खे ….

मुबारक हो, तुम इस नौकरी के पूरे हक़दार हो …’

आप अपने बच्चों को बढ़िया मकान दें , बढ़िया खाना दें , बड़ा टीवी ,मोबाईल ,कम्पूटर  सब दे …

लेकिन साथ ही अपने बच्चों को यह अनुभव भी हासिल करने दे कि उन्हें पता चले कि घास काटते हुए कैसा लगता हैं ?

उन्हें भी अपने हाथों से ये काम करने दें…

खाने के बाद कभी बर्तनों को धोने का अनुभव भी अपने साथ घर के सब बच्चों को करने दें …

ऐसा इस लिए नहीं कि आप मेड पर पैसा खर्च नही कर सकते , बल्कि इस लिए कि आप बच्चों से सही प्यार करते हैं …

आप उन्हें समझाते हैं कि पिता कितने भी अमीर क्यों न हो , एक दिन उनके बाल सफ़ेद होने ही हैं …

सबसे अहम हैं कि आप के बच्चे किसी काम को करने की कोशिश की कद्र करना सीखे ….

एक दुसरे का हाथ बटाते हुए काम का जज्बा अपने अन्दर लाये ….

यही सबसे बड़ी सीख हैं…..

यदि ये कहानी पसंद आई हो तो अपने परिवार में सुनाए और अपने बच्चों को  सर्वोच्च शिक्षा प्रदान करें …

—————————————————————

दोस्तों यदि आपके पास एक सीख जो जीवन में अवश्य अमल में लाये में ओर जानकारी हैं, या हमारे द्वारा दी गई जानकारी में कुछ त्रुटी लगे या कोई सुझाव हो तो comment करके सुझाव हमें अवश्य दें |हम इस पोस्ट को update करते रहेंगें |

दोस्तों यदि आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी हो तो उसे like और share अवश्य करें |

धन्यवाद 🙂

 

अवश्य पढ़े 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here