परिश्रम का महत्व |Importance of hard work a moral story in hindi

0
3864

Importance of hard workपरिश्रम का महत्व |Importance of hard work a moral story in hindi

एक गाँव में गोपाल नाम का एक धनी किसान रहता था। गोपाल बहुत ही आलसी था। वह न तो अपने खेतों की देखभाल करता और न ही अपने गाय -भेसों की। वह अपने घर की भी देखभाल नही करता था। उसने सब काम अपने नौकरों के भरोसे पर छोड़ रक्खा था।

उसके इसी आलस और खेती व घर के कामों पर ध्यान न देने से उसकी घर की व्यवस्था बिगड़ गई थी। इससे उसे खेती में भी हानि होने लगी और गाय-भेसों से भी उसे कोई लाभ नही हो पा रहा था।

एक दिन गोपाल का पुराना मित्र रामलाल उससे मिलने के लिए उसके घर आया।जब रामलाल ने घर की हालत देखी तो वह बहुत दुखी हुआ। उसने समझ लिया कि गोपाल ने अपने आलसी स्वभाव को नहीं छोड़ा हैं। उसने गोपाल के आलसी व्यवहार को छुड़ाने की एक युक्ति सोची। उसने अपने मित्र से कहा,” मैं तुम्हारी गरीबी का कारण जानता हूँ और इसे दूर करने का एक सरल उपाय मेरे पास हैं “।

गोपाल ने उत्साहित होकर कहा,”वह उपाय मुझे बता दो में उसे अवश्य करूंगा

अवश्य पढ़े : निन्यानवे का चक्कर

रामलाल ने कहा -“सब पक्षियों के जागने से पहले मानसरोवर पर्वत पर रहने वाला एक सफ़ेद हंस पृथ्वी पर आता हैं और वह दोपहर बीत जाने पर वापस चला जाता हैं”

यह तो पता नहीं वो कब आएगा पर यदि तुम उसके दर्शन कर पाओ तो फिर तुम्हें किसी बात की कोई कमी नहीं रहा जाएगी।

गोपाल भी अपनी दरिद्रता से दुखी था वह तुरंत बोला चाहे कुछ भी हो जाए वह इस हंस के दर्शन अवश्य करेगा।

इसके बाद रामलाल अपने घर वापस चला गया। अगले दिन गोपाल सुबह बहुत जल्दी उठा और हंस की खोज में खलिहान में चला गया। वहां उसने देखा कि एक आदमी उसके ढेर से अनाज उठा कर अपने ढेर में रख रहा हैं। गोपाल को वहां देखकर वह बहुत लज्जित हुआ और क्षमा मांगने लगा।

अवश्य पढ़े : कर्म और परिश्रम से भाग्य बनता हैं |

जब गोपाल को खलिहान में हंस नहीं मिला तो वह वहां से लौटकर गोशाला में चला गया। वहां का रखवाला गाय का दूध निकालकर अपनी पत्नि के लौटे में डाल रहा था। वह भी गोपाल को वहां देखकर डर गया और माफ़ी मांगने लगा। गोपाल ने उसे डांटा और फिर इस तरह कि हेरा फेरी न हो इस बात की उसे चेतावनी दी।

इसके बाद गोपाल घर चला गया वहां उसने जलपान किया। वह एक बार फिर हंस कि तलाश में अपने खेतों की ओर चला गया। वहां उसने देखा की सूरज सर पर चढ़ आया है नौकर फिर भी खेतों में नहीं आये हैं। वह वहां रुककर उनकी इंतजार करने लगा। घंटो इंतजार करने कर बाद नौकर वहां काम करने के लिए आये। उसने उन्हें देरी से आने के लिए डांटा। फिर से यह गलती न हों इस बात की उसे चेतावनी दी।

इस प्रकार वह जहाँ भी गया वहां कोई न कोई हानि जो हो रही थी वह रुक गयी।अब गोपाल रोज उस हंस की तलाश में जाने लगा। सुबह उठने से गोपाल का स्वास्थ्य भी अच्छा हो गया जिन खेतो से केवल 10 मन अनाज होता था। अब वे 3०मन अनाज देने लगे। और जिन गायों से दूध बहुत कम मिलता था। वह अब इतना अधिक मिलने लगा कि गोपाल को वह दूध बेचना पड़ता था।

कुछ महीनों बाद रामलाल फिर से गोपाल से मिलने के लिए आया।तो रामलाल ने पूछा क्या मानसरोवर वाला हंस मिला। इस पर गोपाल ने कहा मित्र वह हंस तो नहीं मिला पर मुझे उसकी खोज में लगने से बहुत लाभ हुआ।

इस पर रामलाल ने जोर से ठहका लगाया और बोला मित्र- “परिश्रम करना ही वह सफ़ेद हंस है, जिसके पंख सदा उजले होते हैं। जो व्यक्ति स्वयं परिश्रम न करके नौकरों के सहारे रहता है  वह सदैव ही हानि उठाता हैं ।”

—————————————————————

परिश्रम का महत्व |Importance of hard work a moral story in hindi | ये पोस्ट कैसी लगी, कमेंट द्वारा अवश्य बताये। यदि आपके पास भी कोई motivational article/ motivational story और ब्लॉग सम्बन्धित कोई आर्टिकल हैं और आप उसे हमारे साथ शेयर करना चाहते हैं तो onlinedost4u@gmail.com par भेजें ।जिसे आपके नाम व फोटो सहित प्रकाशित किया जायेगा ।

अन्य हिंदी प्रेरक कहानियां यहाँ पढ़े

  1. लड़ती बकरियां और सियार /Fighting goats and The jackal
  2. दुष्ट कोबरा और  कौए / The Cobra and The crow
  3. बगुला और केकड़ा / The Crane & The crab , A panchtantra tale
  4. वीर बालक बादल: जिसका राजपुताना सदैव ऋणी रहेगा |
  5. वीर बालक रामसिंह राठौर : जिसने शाहजहाँ की सत्ता को चुनौती दी |
  6. Rolls royce से कूड़ा – करकट उठवाने वाला  एक भारतीय राजा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here