How to take bath scientificly : एक जानकारी जो जीवन बचा सकती हैं |

1
212 views

 

how to take bath scientificly: एक छोटी सी जानकारी जो जीवन बचा सकती हैं

दोस्तों हम सर्दियों अखबारों में अक्सर  ये खबर सुनते हैं कि फला व्यक्ति की मृत्यु नहाते समय हो गई या उसे ब्रेन हेमरेज या हार्ट अटैक आ गया या उसे जीवन भर के लिए लकवा मार गया |

हम अक्सर ये भी देखते हैं कि छोटा बच्चा नहाते समय कांपता है और डरता हैं तो दोस्तों ये सब होता हैं गलत तरीके से नहाने के कारण|

दोस्तों हमारे शरीर में गुप्त विधुत शक्ति ,रुधिर के निरंतर प्रवाह के कारण पैदा होती रहती हैं | इसका प्रवाह उपर से नीचे पैरो की और होता हैं |

हमारे सर में बहुत ही महीन रक्त नलिकाये होती हैं जो दिमाग को रक्त पहुचती हैं | यदि कोई व्यक्ति निरंतर सीधे सर पर ठंडा पानी डालकर नहाता है तो ये नलिकाएं सिकुड़ने लगती हैं और धीरे – धीरे उनमें रक्त के थक्के जमने लगते हैं |

सर पर सीधे पानी डालने पर हमारा सर ठंडा होने लगता हैं ,जिससे ह्रदय को सर की ओर ज्यादा तेजी से रक्त भेजना पड़ता हैं | इसके कारण या तो हार्ट अटैक या ब्रेन हैमरेज की घटना होने की संभावना बढ़ जाती हैं | ये समस्या बुजुर्गो में होने की संभावना होने की अधिक होती हैं |

ठीक इसी तरह बच्चे का नियंत्रण तंत्र भी तुरंत प्रतिक्रिया देता हैं जिससे बच्चे के कम्पन से शरीर में गर्मी उत्पन्न होती हैं और माँ ये समझती हैं कि बच्चा डर रहा हैं | गलत तरीके से नहाने से बच्चे की धड़कन अत्यधिक बढ़ जाती हैं |

नहाने का सही तरीका

बाथरूम में आराम से बैठकर या खड़े होकर सबसे पहले पंजों पर पानीं डालिए ,फिर पिंडलियों पर ,फिर घुटनों पर , फिर जांघो पर पानी डालिए और हाथों से मालिश कीजिए |

फिर हाथों से पानी को पेट पर रगडीये, फिर कंधो पर पानी डालिए, फिर अंजुली से लेकर पानी मुंह पर मलिए | हाथों से पानी लेकर सर पर मलिए |

इसके बाद आप चाहे बाल्टी से या शावर के नीचे खड़े होकर नहा सकते हैं |इस पूरी प्रकिया में लगभग एक मिनट का समय लगता हैं| ये प्रकिया आपके अनमोल जीवन को बचा सकती हैं या जीवन भर के लिए आपहिज होने से बचा सकती हैं |

Related: बड़ों की सीख जो जीवन में बहुत उपयोगी हैं |

इस प्रक्रिया में शरीर की गर्मी पेशाब के रास्ते बाहर निकल जाती हैं आप कितनी भी सर्दी में नहाये| आपको कभी जुकाम व बुखार नही होगा |

दोस्तों ये पोस्ट बच्चों व बुजुर्गो के लिए बहुत ही उपयोगी हैं |

दोस्तों ये पोस्ट Dr K.P.Singh की हैं मुझे लगा कि यह एक महत्वपूर्ण जानकारी है | जिसे dost4u के reders इसको पढना पसंद करेंगे और यह जानकारी अधिक से अधिक लोगों को share करेंगे | Dr K.P.Singh का बहुत -बहुत धन्यवाद जिन्होंने यह महत्वपूर्ण जानकारी दी |

दोस्तों सोशल नेटवर्किंग ज्ञान के आदान प्रदान का एक शशक्त माध्यम है | आज के बदलते परिवेश में किसी भी व्यक्ति के पास इतना समय नहीं हैं कि वह बैठकर किसी पुस्तक या किताब को पढ़ सके | मोबाइल और इन्टरनेट ने आज हम सभी को ज्ञान – विज्ञान के भंडार से मात्र एक क्लिक की दूरी तक सीमित कर दिया हैं | हमें जब भी वक्त मिलता हैं हम तुरंत ज्ञान – विज्ञान की दुनियां से कनेक्ट हो जाते हैं |

————————————————————

How to take bath scientificly : एक जानकारी जो जीवन बचा सकती हैं |ये पोस्ट कैसी लगी, कमेंट द्वारा अवश्य बताये | यदि आपके पास भी कोई motivational article/ motivational story और ब्लॉग सम्बन्धित कोई आर्टिकल हैं और आप उसे हमारे साथ शेयर करना चाहते हैं तो onlinedost4u@gmail.com par भेजें /जिसे आपके नाम व फोटो सहित प्रकाशित किया जायेगा |

Thanku 🙂

Related posts :

  1. जीका वायरस का इतिहास, जीका वायरस के लक्षण , प्रभाव और उपचार
  2. बड़ों की सीख जो जीवन में बहुत उपयोगी हैं |
  3. स्वास्थ्य मंत्रा
  4. जंक फ़ूड के बारे में रोचक तथ्य
  5. Mahrisi Charak: Father of Medicine/महर्षि चरक का जीवन परिचय
  6. Sushruta: World first plastic surgen/सुश्रुत: विश्व के प्रथम प्लास्टिक सर्जन
  7. स्वाइन फ्लू : कारण, लक्षण,बचाव व उपचार

 

 

 

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here