Bhai dooj kyo manaya jata hai in hindi| भाई दूज का महत्व और पूजन विधि

0
345 views

Bhai dooj kyo manaya jata hai in hindi| भाई दूज का महत्व और पूजन विधि

bhai-dooj-kyo-manaya-jata-hai-in-hindi

भाईदूज दिवाली के दो दिन बाद आने वाला ऐसा पर्व है, जो भाई के प्रति बहन के स्नेह को अभिव्यक्त करता है एवं बहनें अपने भाई की खुशहाली के लिए कामना करती हैं।जो हिन्दू धर्म का सबसे पवित्र त्योहार माना जाता है। ये त्योहर कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाया जाता है। इसे भाईदूज या यमद्वितीया के नाम से भी जाना जाता है।
इस दिन सभी बहने निराहार रहकर अपने भाई को रोली चंदन का टिका लगाकर उनके उज्जवल भविष्य की मनोकामना करती है।  भाई अपनी बहन को कुछ उपहार या दक्षिणा देता है।

भाई-दूज की पूजा विधि-Bhai Dooj Pooja Vidhi

इस दिन बहन को सबसे पहले सुबह उठकर स्नान करना चाहिए|इसके बाद शुद्ध वस्त्र पहन कर भगवान गणेश और विष्णु भगवान की पूजा करनी चाहिए|इसके बाद बहनों को भाइयों के स्वस्थ्य तथा दीर्घ आयु की कामना करते हुए|सबसे पहले बहन अपने भाई के हाथों पर चावलों का घोल लगाए। उसके ऊपर सिंदूर लगाकर फूल, पान, सुपारी तथा मुद्रा रख कर धीरे-धीरे हाथों पर पानी छोड़ते हुए मंत्र बोले ‘गंगा पूजा यमुना को, यमी पूजे यमराज को। सुभद्रा पूजे कृष्ण को गंगा यमुना नीर बहे मेरे भाई आप बढ़ें फूले फलें।’ इसके उपरांत भाई को तिलक लगाना चाहिए।

भाई दूज की कथा-Bhai Dooj Katha

 शास्त्रों के अनुसार सूर्य  भगवान की पत्नी संज्ञा से दो संतानें थीं  एक पुत्र यमराज और दूसरी पुत्री यमुना। संज्ञा सूर्य का तेज सहन न कर पाने के कारण अपनी छायामूर्ति का निर्माण कर उसे ही अपने पुत्र-पुत्री को सौंपकर वहां से चली गई। छाया को यम और यमुना से किसी प्रकार का लगाव न था, लेकिन यम और यमुना में बहुत प्रेम था।

यमराज अपनी बहन यमुना से बहुत प्यार करते थे, लेकिन ज्यादा काम होने के कारण अपनी बहन से मिलने नहीं जा पाते। एक दिन यम अपनी बहन की नाराजगी को दूर करने के लिए मिलने चले गए। यमुना अपने भाई को देख खुश हो गईं। भाई के लिए खाना बनाया और आदर सत्कार किया।

बहन का प्यार देखकर यमराज इतने खुश हुए कि उन्होंने यमुना को खूब सारे भेंट दिए। यम जब बहन से मिलने के बाद विदा लेने लगे तो बहन यमुना से कोई भी अपनी इच्छा का वरदान मांगने के लिए कहा। यमुना ने उनके इस आग्रह को सुन कहा कि अगर आप मुझे वर देना ही चाहते हैं तो यही वर दीजिए कि आज के दिन हर साल आप मेरे यहां आएं और मेरा आतिथ्य स्वीकार करेंगे।यह वरदान भी दीजिए कि आज के दिन जो भाई बहन के घर भोजन करे और मथुरा के विश्राम घट पर यमुना के जल में स्नान करे उस व्यक्ति को यमलोक नहीं जाना पड़े। भाई यम ने अपनी बहन के आशीर्वाद दिया । कहा जाता है इसी के बाद हर साल भाईदूज का त्यौहार मनाया जाता है।

—————————————————————

दोस्तों यदि आपके पास Bhai dooj kyo manaya jata hai in hindi| भाई दूज का महत्व और पूजन विधि ।में ओर जानकारी हैं, या हमारे द्वारा दी गई जानकारी में कुछ त्रुटी लगे या कोई सुझाव हो तो comment करके सुझाव हमें अवश्य दें । हम इस पोस्ट को update करते रहेंगें ।

दोस्तों यदि आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी हो तो उसे like और share अवश्य करें ।

धन्यवाद 🙂

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here