भगत सिंह के बारे में रोचक तथ्य

0
132

जन्म दिनांक -27 सितम्बर 1907

जन्म स्थान – बंगा ( जिला लायलपुर) वर्तमान में पाकिस्तान में

पिता का नाम- किशन सिंह

माता का नाम- विद्यावती कौर

भारतीय जनमानस के ह्रदय में भगतसिंह का वो स्थान हैं कि उनका नाम याद आते ही रगों में खून दौड़ने लगता है और सीना गर्व से चौड़ा हो जाता है . स्वतंत्रता संघर्ष आन्दोलन में वे सम्पूर्ण भारत वर्ष के युवाओ के आदर्श व् प्रेरणा श्रोत थे . उन्होंने अपने आपको मात्र २३ वर्ष में ही स्वतन्त्रता की वेदी पर अपने प्राण न्योछावर कर हम सभी के ह्रदय में अपनी अमित छाप छोड़ गए . उनके बारे में कुछ रौचक तथ्य निम्न प्रकार है .

1- कठोरता और आजाद सोच ये दोनों क्रन्तिकारी होने के गुण हैं.

2- राख का हर कण मेरी गर्मी से गतिमान है , मैं एक ऐसा पागल हू जो जेल में भी आजाद हैं .

3- प्रेमी ,पागल ,और कवि एक ही चीज से बने हैं .

4- यदि बहरों को सुनना है तो आवाज को बहुत जोरदार होना होगा .जब हमने बम गिराया तो हमारा ध्येय किसी को मारना नहीं था .हमने अग्रेजी हुकूमत पर बम गिराया था . अंग्रेजों को भारत छोड़ना होगा .

5- आमतौर पर लोग चीजें जैसी हैं उसके आदि हो जाते हैं और बदलाव के विचार से कांपने लगते हैं.  हमें इसी निष्क्रियता की भावना को क्रन्तिकारी भावना में बदलना हैं .

6- किसी को भी क्रांति शब्द की व्याख्या शाब्दिक अर्थ मे नही करनी चाहिये , जो लोग इस शब्द का उपयोग अपने फायदे के लिए अलग – अलग अर्थो मे करते है .

7- मै महत्वाकांक्षा, आशा , और जीवन के प्रति आकर्षण से भरा हुआ हू , पर जरुरत पड़ने पर सभी त्याग सकता हू , और यही सच्चा बलिदान हैं

8- किसी भी कीमत पर बल का प्रयोग ना करना , काल्पनिक आदर्श हैं इसीलिये जो नया आन्दोलन देश में शुरू हुआ है वह गुरु गोविन्द सिंह , शिवाजी महाराज, कमाल पाशा , राजा खान ,वाशिंगटन  , गैरीबाल्डी और लेनिन के आदर्शो से प्रेरित है .

9- किसी व्यक्ति को कुचलकर , उसके विचारों को नहीं मार सकते .

10- क्रांति में सदैव संघर्ष हो यह आवश्यक नहीं , यह बम और पिस्तौल की राह नहीँ हैं .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here