Archimedes Story of Golden Crown|आर्कमिडीज और  सोने का हार

0
212 views

आर्कमिडीज और सोने का हार

Archimedes Story of Golden Crown

Archimedes Story of Golden Crown

Archimedes Story of Golden Crown. दोस्तों ये घटना आज से लगभग 2100 वर्ष पूर्व की हैं यूनान की हैंएक बार राजा हीएरोन  अपने दरबार में बैठा हुआ था तभी उसके दिमाग में अपने लिए एक नया मुकुट बनवाने का विचार आयाउसने राज्य के सबसे अच्छे स्वर्णकार को बुलाने के लिए अपने सेवक भेजेस्वर्णकार के आने पर राजा ने उसे शुद्ध स्वर्ण देकर उसे अपने लिए  सुन्दर सा मुकुट बनाकर लाने के लिए कहा

लगभग एक माह बाद स्वर्णकार बने हुए मुकुट को लेकर दरबार में आया और राजा हीएरोन को दे दिया मुकुट वास्तव में बहुत ही सुन्दर था लेकिन राजा को उसकी चमक कुछ फीकी लगी उस संदेह हुआ की शायद मुकुट बनाने में कुछ मिलावट की गई हैं लेकिन उस समय ऐसी कोई भी तकनीक नही थी जो यह पता लगा सके कि मुकुट में मिलावट हैं

राजा ने अपने दरबारियों से इस बारे में सलाह कि तो उन्होंने राजा को बताया की यदि इस बारे में कोई है जो पता लगा सकता है,तो वह केवल आर्कमिडीज हैं जो उस समय का सबसे महान गणतिज्ञ था राजा ने उसे बुलाकर मुकुट उसे सोपतें हुए उसकी शुद्धता पता लगाने का अनुरोध किया

अब आर्कमिडीज इस गुत्थी को सुलझाने में लग गया वह दिन-रात इसी चिंतन में रहता वह किस प्रकार मुकुट की शुद्धता को जाँच पाएएक दिन वह नहाने के लिए पानी से भरे तब में बैठा तो उसमे से कुछ पानी बाहर निकलाअचानक ही उसके दिमाग में कोई विचार आया और वह पानी से बाहर निकला यूरेका यूरेका कहते कहते हुए नंगा ही शहर की सड़कों पर दौड़ता -दौड़ता दरबार तक पहुँच गयादरबार में पहुँचने पर उसने राजा को बताया कि मुकुट की शुद्धता नापने का तरीका मिल गया हैं

आर्कमिडीज जानता था की प्रत्येक शुद्ध धातु का अपना नियत घनत्व होता हैयदि उसमे मिलावट की जाये तो उसका घनत्व बदल जायेगाइसी प्रकार जब उसने मुकुट के बराबर सामान वजन का शुद्ध सोना पानी में डुबोया तो उसके द्वारा हटाया गया पानी, मुकुट को डुबोये जाने से हटाये गये पानी से अलग था इसी से उसने मुकुट में सोने की शुद्धता का पता लगा लिया

आर्किमिडिज का सिंद्धांत

आर्कमिडीज के अनुसार, जब  कोई वस्तु  किसी द्रव में आंशिक या पूर्ण रूप से  डुबोई जाती है तो उसके भार में कमी आ जाती है और भार में यह कमी वस्तु द्वारा हटाये गये द्रव के भार के बराबर होती है।

यदि किसी वस्तु का भार वायु में w1 है तथा द्रव में डुबोने पर w2 हो तो, द्रव में डुबोने पर वस्तु के भार में कमी = w1 – w2

अतः आर्कमिडीज के सिद्धान्त से :-w1 – w2 = ɠvg

ɠ = द्रव का घनत्व

v = द्रव का आयतन

g = गुरूत्वीय त्वरण

दोस्तों आर्कमिडीज की इस खोज ने साइंस को एक नई दिशा प्रदान की और इसी सिद्धांत के आधार पर आगे चलकर नई -नई खोजे हुई जिन्होंने मानव जीवन को बहुत सरल कर दिया

For More Read – महान व्यक्तियों के जीवन के प्रेरक प्रसंगों का विशाल संग्रह
Similar Post-

—————————————————————

दोस्तों Archimedes Story of Golden Crown|आर्कमिडीज और  सोने का हार | में दी गई जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया हमारे फेसबुक(Facebook) को Like & Share अवश्य करें। 

हमारे द्वारा दी गई जानकारी में कुछ त्रुटी लगे या कोई सुझाव हो तो comment करके सुझाव हमें अवश्य दें।हम इस पोस्ट को update करते रहेंगें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here