रामायण से जुड़े 21 रोचक तथ्य| Amazing fact about ramayan in hindi

1
3829

amazing fact about ramayan in hindi

रामायण से जुड़े 21 रोचक तथ्य | Amazing fact about ramayan in hindi

रामायण के बारे में तो हम सब ने बहुत कुछ पढ़ा भी हैं और सुना भी | पर फिर भी बहुत से बातें ऐसी हैं जो हमने पढ़ी या सुनी नही होगी |तो दोस्तों आज हम आपको कुछ ऐसी ही अनसुनी बातों से आपको अवगत कराते हैं |

1. श्री राम की माँ कौशल्या, कौशल देश की राजकुमारी थी| इनके पिता का नाम सकौशल व माता का नाम अमृत प्रभा था|

2.आनंद रामायण के अनुसार रावण ने न केवल देवी सीता का अपहरण किया था, बल्कि कौशल्या का भी अपहरण किया था |

3. ब्रम्हा जी ने रावण को पहले ही बता दिया था कि दशरथ और कौशल्या का पुत्र उसकी मृत्यु का कारण बनेगा |अपनी मृत्युको टालने के लिए रावण ने कौशल्या का अपहरण कर उसे एक डिब्बे में बंद करके उन्हें एक सुमुद्र से घिरे द्वीप पर छोड़ दिया था |

4. नारद मुनि ने रावण की यह हरकत राजा दशरथ को बता दी | महाराज दशरथ का युद्ध रावण के साथ हुआ | जिसमे राजा दशरथ के सभी सैनिक मारे गये |राजा दशरथ एक लकड़ी के लट्ठे के सहारे उस द्वीप तक पहुंचे| जहाँ पर नारद मुनि व अन्य ऋषियों ने उनका विवाह संपन्न कराया|

5. श्री राम के एक बहन भी थी जिसका नाम शांता था | जिसको बचपन में ही कौशल्या ने अपनी बहन वर्शनी व अंगदेश के राजा रोपद को गोद दे दिया था |

6.माना जाता हैं कि देवी सीता भगवान शिव के धनुष को बचपन से ही खेल- खेल में उठा लेती थी | इसीलिए उनके स्वयंवर में धनुष जिसका नाम पिनाका था, उस पर प्रत्यंचा चढ़ाने की शर्त रक्खी गयी थी |

7.एक बार रावण जब भगवान शिव के दर्शन करने के लिए कैलाश पर्वत गए | उन्हें मार्ग में नंदी मिले जिनको रावण ने वानर के मुंह वाला कह कर उस का उपहास उड़ाया| नंदी ने तब रावण को श्राप दिया कि वानरों के कारण ही तुम्हारी मृत्यु होगी |

8.  अपने विजय अभियान के दौरान रावण जब स्वर्ग पहुँचा तो वहां उसे रम्भा नाम की एक अप्सरा मिली | रावण उस पर मोहित हो गया| रावण ने जब उसे छूने का प्रयास किया तो उसने कहा कि में आपके भाई कुबेर के पुत्र नल कुबेर के लिए आरक्षित हूं | इसलिए में आपकी पुत्र वधु के समान हूँ | पर रावण अपनी शक्ति में इतना चूर था कि उसने उसकी एक न मानी| जब नल कुबेर को इस बात का पता चला तो उसने रावण को श्राप दिया कि आज के बाद यदि किसी पराई स्त्री को उसकी इच्छा के विरुद्ध छुआ तो उसके मस्तक के 100 टुकड़े हो जायेंगे|

9. रावण की बहन सुपर्णखा ने खुद रावण को श्राप दिया था कि उसका सर्वनाश हो जाए | सुपर्णखा का पति राक्षस राजा कालकेय का सेनापति था| जिसका वध रावण ने अपने विश्व विजय अभियान के दौरान कर दिया था |

10. राम सेतु बनाने में कुल 5 दिन का समय लगा था| यह पुल 100 योजन लम्बा व 10 योजन चौड़ा था | एक योजन लगभग 13 किमी के बराबर होता हैं |

11. वनवास के दौरान श्री राम ने कबंध नामक एक श्रापित राक्षस का वध किया था| उसी ने राम को सुग्रीव से मित्रता करने का सुझाव दिया था |

12. जिस समय श्री राम वनवास को गये थे उस समय उनकी आयु 27 वर्ष थी | राजा दशरथ नही चाहते थे कि राम वन जाए | इसीलिए दशरथ ने उन्हें सुझाव दिया कि वे उन्हें बंदी बना ले और राजगद्दी पर बैठ जाए |

13. रावण जब विश्व विजय पर निकला तो उसका युद्ध अयोध्या के राजा अनरन्य के साथ हुआ | जिस में रावण विजयी रहा | राजा अनरन्य वीरगतिको प्राप्त हुए |उन्होंने मरते हुए श्राप दिया कि तेरी मृत्यु मेरे कुल के एक युवक द्वारा होगी |

14. बाल्मीकि रामायण के अनुसार एक बार रावण अपने पुष्पक विमान से जा रहा था| उसने एक सुन्दर युवती को तप करते देखा | वह युवती वेदवती थी जो भगवान विष्णु को पति के रूप में पाने के लिए तपस्या कर रही थी | रावण उस पर मोहित हो गया और उसे जबरदस्ती अपने साथ ले जाने का प्रयास करने लगा| तब उस तपस्वी युवती ने रावण को  श्राप दिया कि तेरी मृत्यु का कारण एक स्त्री बनेगी और अपने प्राण त्याग दिए |

15. भरत को अपने पिता की मृत्यु का आभास पहले ही हो गया था | उसने स्वप्न में देखा कि उसके पिता काले कपड़ों में लाल रंग की फूलो की माला पहने हुए |गधे से जुत्ते एक रथ में बैठकर दक्षिण दिशा ( यम दिशा ) में जा रहे हैं और पीले रंग की स्त्रियाँ उन पर फूलों की वर्षा कर रहीं हैं |

अवश्य पढ़े :  दशहरा क्यों मनाया जाता हैं |

16. जिस दिन रावण सीता का हरण करके अशोक वाटिका में लाया था| उसी दिन ब्रह्मा ने एक विशेष खीर इंद्र के हाथों देवी सीता तक पहुंचाई थी| इंद्र ने देवी सीता के पहरे पर लगे राक्षसों को अपने प्रभाव से सुला दिया | जिसके बाद इन्द्र ने देवी सीता को वो दिव्य खीर दी जिसे ग्रहण कर देवी सीता की भूख प्यास शांत हो गई थी |

17. एक बार रावण ने शिव को प्रसन्न करने के लिए कैलाश पर्वत को अपने कंधो पर उठा लिया था | जिससे माता पार्वती बहुत क्रोधित हुई उन्होंने रावण को श्राप दिया कि तेरी मृत्यु एक स्त्री के कारण होगी |

18. रावण जब अपने विश्व विजय के अभियान पर था तो वह यमपुरी पहुँचा | जहाँ उसका युद्ध यमराज से हुआ | जब यमराज ने उस पर कालदंड का प्रहार करना चाहा तो ब्रम्हा जी उन्हें रोक दिया | क्योंकि  वरदान के कारण रावण का वध किसी देवता द्वारा संभव नहीं था |

19. माना जाता हैं कि गिलहरी के शरीर पर जो धारियां है वे भगवान राम के आशीर्वाद के कारण हैं| जिस समय लंका पर आक्रमण करने के लिए रामसेतु का निर्माण हो रहा था उस समय एक गिलहरी इस काम में मदद कर रहीं थी | उसके इस समर्पण भाव को देख कर श्री राम ने प्रेम पूर्वक अपनी अंगुलियाँ उसकी पीठ पर फेरी थी | तब से उसके शरीर पर धारियां पड़ गई थी|

20. राम रावण के युद्ध के दौरान इंद्र ने अपना रथ भेजा था जिस पर बैठ कर राम ने रावण का वध किया था |

21. श्री राम का अवतार एक पूर्ण अवतार नहीं माना जाता | श्री राम 14 कलाओं में पारंगत  थे जबकि श्री कृष्ण 16 कलाओं में पारंगत थे |ऐसा इसलिए था कि रावण को वरदान प्राप्त थे कि उसे कोई देवता नही मार सकता |उसका वध कोई मनुष्य ही कर सकता हैं |

—————————————————————

दोस्तों यदि आपके पास रामायण से जुड़े 21 रोचक तथ्य| Amazing fact about ramayan in hindi  में ओर जानकारी हैं, या हमारे द्वारा दी गई जानकारी में कुछ सही न लगे या कोई सुझाव हो तो comment करके सुझाव हमें अवश्य दें |हम इस पोस्ट को update करते रहेंगें |

दोस्तों यदि आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी हो तो उसे like और share अवश्य करें |

धन्यवाद 🙂

 

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here