अकबर-बीरबल के मजेदार किस्से

0
305 views

अकबर बीरबल के  मजेदार किस्से /Akbar Birbal stories in hindi

 

#1# हर वक्त कौन चलता हैं

एक दिन बादशाह ने दरबारियों से पूछा की हर समय कौन चलता है . किसी दरबारी ने उत्तर दिया की सूर्य , किसी ने चंद्रमा को बताया, और किसी ने पृथ्वी को बताया .

बादशाह ने जब यही प्रश्न बीरबल से पूछा तो उन्होंने कहा कि – ‘बादशाह ! महाजन का सूद ( ब्याज) हर समय चलता है .’

सूद को कभी थकावट नहीं होती .

यह दिन दूनी रात चौगनी गति से चलता है . बादशाह को बीरबल का यह बुधिमातापूर्ण उत्तर बहुत पसंद आया .

 #2# दो गधों का बोझ

एक दिन बादशाह अकबर ,शहजादा सलीम और बीरबल सैर कर रहें थे .उस दिन गर्मी बहुत ज्यादा थी इसलिए अकबर ने अपना कोट उतारकर बीरबल के कंधे पर रख दिया .

यह देखकर शहजादे से भी न रहा गया . उसने भी अपना कोट उतारकर बीरबल के कंधे पर रख दिया .

यह देखकर अकबर को मजाक सूजा और बोले – ‘ बीरबल तुम्हारे कंधे पर तो एक गधे का बोझ हो गया है.’

बीरबल ने कहा – ‘नहीं बादशाह , आप गलत कह रहें है , एक नहीं दो गधो का भोज लदा हुआ है .’

बीरबल के इस जवाब पर बादशाह और शहजादा दोनों मुस्करा दिए .

#3# संगति का असर

बादशाह और बीरबल आपस में बातें कर रहें थे की अचानक ही बीरबल के मुंह से कोई अपशब्द निकल गया .

बादशाह को बड़ा बुरा लगा . वे बोले – ‘ बीरबल तुम्हें बोलने की तमीज नहीं रही , दिनों दिन तुम बदतमीज होते जा रहे हो .

बीरबल बोले हां जहांपनाह ? पहले तो ऐसा नहीं था लेकिन अब संगति से दोष आना तो स्वाभाविक ही है . बादशाह निरुत्तर हो गए .

 

#4# गधे तम्बाकू नहीं खाते

बीरबल तम्बाकू खाता था , लेकिन अकबर नहीं खाता था . एक दिन अकबर ने तम्बाकू के खेत मे गधे को घास खाते हुए देखकर कहा कि – ‘ बीरबल ये देखो तम्बाकू कितनी बुरी चीज हैं , इसको गधा तक नहीं खाता .’

बीरबल ने कहा – ‘ हां हुजुर सच है गधे , तम्बाकू नहीं खाते .

बादशाह शर्मिंदा हुए .

#5# लोटा न था

एक बार बादशाह ने बीरबल से पूछा – ‘ ब्राहमण प्यासा क्यों और गधा उदास क्यों ,

बीरबल ने जल्दी से जवाब दिया – लोटा न था .

अर्थात ब्राह्मण के पास लौटा न होने के कारण वह प्यासा रहा और गधा न लोटने से उदास रहा .

बादशाह दो प्रश्नों का एक ही जवाब सुनकर बहुत खुश हुआ .

 

#6# ऊंट की गर्दन टेढ़ी क्यों

एक बार बादशाह अकबर ने बीरबल को जांगीर देने का वायदा किया, लेकिन जब जांगीर देने का समय आता तो गर्दन फेर लेते .

कुछ दिन बाद बादशाह और बीरबल कहीं से गुजर रहें थे , उन्हें एक ऊंट बैठा हुआ दिखाई दिया . ऊंट को देखकर बादशाह ने बीरबल से पूछा –बीरबल ऊंट की गर्दन टेढ़ी क्यों होती हैं ?

बीरबल बोला गुस्ताखी माफ़ जहांपनाह ,लेकिन मेरा ख्याल है कि इसने भी किसी को जांगीर देने का वायदा किया होगा , लेकिन समय पर गर्दन फेर ली .

बादशाह ने अपनी बात याद कर शर्मिंदा हुए और बीरबल को जांगीर दे दी .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here